विज्ञान ने सब कुछ संभव कर दिया है और भविष्य में यह और भी विस्तृत होगा क्योंकि नई - नई खोज की जा रही है जो भविष्य में नया और अलग परिणाम देगा, दोस्तों Science ने कितनी तरक्की कर ली है यह तो आप देखते ही होंगे, दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाली वस्तु भी विज्ञान की ही देन है।

Read Also ➤ कंप्यूटर पर निबंध - आधुनिक युग में कंप्यूटर का महत्व (Computer Essay in Hindi)

अगर आप स्कूल स्टूडेंट हैं और विज्ञान के चमत्कार पर निबंध की तलाश में हैं तो इस लेख में Vigyan Ke Chamatkar Nibandh Hindi Mein दिया गया है जिससे आपको निबंध लिखने में हेल्प मिलेगी।

विज्ञान के चमत्कार निबंध (Wonders of Science Essay in Hindi)


विज्ञान के चमत्कार निबंध – पढ़िए Vigyan Ke Chamatkar Essay हिंदी में
Vigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi

प्रस्तावना 

आज विज्ञान ने पूरे संसार में अपना परचम किस तरह लहराया है यह हर कोई जानता है रोज काम आने वाली अधिकतर सामान विज्ञान की देन है इसके बिना आज जीवन की कल्पना करना भी मुश्किल है क्योंकि हम वैज्ञानिक तकनीक से निर्मित वस्तुओं पर निर्भर रहते हैं जो जीवन को पहले से सरल बनाते हैं इनके बगैर जीवन मुश्किल हो जाएगा।

यहां बात केवल दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाली वस्तु कि नहीं बल्कि हर क्षेत्र में विज्ञान ने अपना असीमित योगदान दिया है जिसकी वजह से हर क्षेत्र में काम करना सरल बन गया है और इसे और बेहतर बनाने का कार्य निरंतर जारी रहता है।

विज्ञान किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है हर क्षेत्र में आगे आकर उसने संस्कार को नए-नए आविष्कार की भेंट दिए हैं, जो मानव जाति के लिए एक वरदान स्वरुप है वैसे कई क्षेत्र हैं जिनमें विज्ञान ने अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दिया है जिनमें से कुछ इस प्रकार है।

चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार 

इस दुनिया में जब चिकित्सा के क्षेत्र में नई तकनीक का आविष्कार नहीं हुआ था तब घरेलू उपचार करके रोगों को ठीक किया जाता था, जो बहुत कारगर साबित होतेे थे लेकिन गांव और महानगर में जब महामारी की समस्या उत्पन्न हो जाती थी तब हजारों लाखों लोगों की जान चली जाती थी क्योंकि उस वक्त ऐसी बीमारियोंं का इलाज नहीं खोजा गया था।

लेकिन आज 21वीं शताब्दी में लगभग हर बीमारियों का इलाज हो जाता है यहां तक की खतरनाक कैंसर जैसी बड़ी बीमारियों का इलाज भी संभव हो गया है और यह सब मुमकिन हो पाया है विज्ञान की वजह से।

अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए तरह-तरह के इलेक्ट्रॉनिक मशीनें लगाई जाती है जिन्हें कड़ी मेहनत करके बड़े साइंटिस्ट्स ने तैयार किया है, अगर बीपी चेक करना हो तो बीपी मशीन और ब्लड ग्रुप चेक करने की तकनीक भी ढूंढ़ ली गई है, अब देश का कोई भी आदमी अस्पताल जाकर अपनी समस्याओं का निदान पा सकता है।

टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में विज्ञान का तकनीकी चमत्कार

एक समय ऐसा था जब मोबाइल का आविष्कार हुआ ही नहीं था उस समय अगर देश विदेश के लोगों से बातें करना होता था तब चिट्ठी भेजी जाती है जो कई दिन बाद उन तक पहुंच पाती थी इसी तरीके से लोग अपनी बातें दूसरे राज्य में बैठे व्यक्ति के पास पहुंचाते थे।

लेकिन जब से टेलीफोन का आविष्कार किया गया तब यह समस्या भी दूर हो गई उसके बाद से लोग एक जगह से बैठकर दुनिया के किसी भी व्यक्ति के साथ बातें करने लगे, इससे किसी से हजारों मील यात्रा तय करके मिलने की समस्या दूर हो गई।

उसके बाद से अब हर कोई अपने मोबाइल फोन की मदद से देश और दुनिया में कहीं भी रहने वाले लोगों के साथ कुछ ही मिनटों में बातें कर सकता है, केवल बातचीत ही नहीं टेक्नोलॉजी कितनी बढ़ गई है कि अब Phone में भी नई नई फीचर्स ऐड किए जा चुके हैं और हर बार उसे पहले से बेहतर बनाने की कोशिश जारी रहती है।

कंप्यूटर, लैपटॉप, प्रिंटर, इलेक्ट्रॉनिक फैन, टेलीविजन आदि इलेक्ट्रॉनिक मशीन विज्ञान की देन है जो अब हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन चुका है जिनके बगैर आजकल लगभग हर काम असंभव है, टेक्नोलॉजी इतनी अधिक बढ़ गई है कि आज हर किसी के पास खुद का टेलीविजन होता है जिस पर वह समाचार न्यूज़, ताजा खबर घर बैठे देख सकता है।

यातायात के क्षेत्र में विज्ञान का योगदान

बेशक अब हजारों मीलों की यात्रा छोटी लगती है क्योंकि विज्ञान ने अपना चमत्कार यातायात के संसाधनों में भी बिखेर दिया है, बस, ट्रेन, बोट और हवाईजहाज़ सब विज्ञान कि मदद से ही बनाया गया है।

अब बस गाड़ी की मदद से कोई कहीं भी यात्रा कर सकता है अगर किसी को एक देश से दूसरे देश में जाना हो तो उसके लिए हवाई जहाज भी उपलब्ध है, जल, थल और हवा में डगर विज्ञान ने बनाकर दिखा दिया है, जहां पक्षी खुले आकाश में उड़ते हैं वहीं अब इंसान भी एरोप्लेन की मदद से उड़ पाते है, हवा की रफ्तार से ट्रेन में सफर कर पाते हैं और पानी में भी यात्रा करना अब संभव हो गया है।

यात्राओं को सुगम और सरल बनाने में विज्ञान ने अपना योगदान तो दिया ही है लेकिन बस, ट्रेन और हवाई जहाज का टिकट भी आप घर बैठे बुक कर सकते हैं अपनी कंप्यूटर या मोबाइल की मदद से मोबाइल केवल अब बात करने के लिए नहीं बल्कि हर ऑनलाइन कार्य के लिए उपयोग में लाया जाता है।

कृषि और व्यवसाय में विज्ञान का महत्व

कृषि कार्य को आसान बनाने के लिए विज्ञान की मदद से अलग-अलग तकनीक लाए गए धान, सब्जियां आदि की पैदावार को बढ़ाने के लिए अलग-अलग नस्लें वैज्ञानिक विधि के द्वारा बनाए गए हैं जिससे किसानों को अधिक लाभ होता है, अलग-अलग कीटनाशक बनाए गए हैं जिसकी मदद से फसल को कीट से बचा सकते है।

खेत की जुताई को आसान बनाने के लिए ट्रैक्टर, फसल रोपाई के लिए अलग से मशीन और फसल कटाई के लिए क्रॉप कटर मशीन का इस्तेमाल किया जाता है, ग्रामीण क्षेत्र में ट्रैक्टर का इस्तेमाल खेत को जोतने के लिए करते हैं।

व्यवसाय या बिजनेस  

व्यवसाय की बात करें तो वह भी पहले सरल हो गया है एक व्यापारी अपनी दुकान में हजारों सामानों को एक साथ ला सकता है ट्रक और टेंपो की मदद से, अपनेेे बिजनेस को कम समय में लाखों लोगों तक पहुंचाया जा सकता है यह कार्य इंटरनेट से संभव है और इंटरनेट भी विज्ञान की ही देन है।

मनोरंजन (एंटरटेनमेंट) के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार

लोगों के मनोरंजन के लिए टेलीविजन (TV) एक सस्ता और अच्छा विकल्प है जिसमें आप अपने मनपसंद का प्रोग्राम देख सकते हैं जिनमें कुछ हंसान वाले प्रोग्राम्स भी आते हैं जो लोगों को एंटरटेन करते हैं।

इसी तरह मोबाइल में भी गेम एप्लीकेशन इंस्टॉल करके खेला जा सकता है और कंप्यूटर पर अपना रोज का काम करने के अलावा मनोरंजन के लिए म्यूजिक और वीडियो देख सकते हैं और गेम्स भी प्ले कर सकते हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में विज्ञान का योगदान (Science in Education)

शिक्षा प्राप्त करना है छात्र का अधिकार होता है इस अधिकार को आसान विज्ञान ने बना दिया है क्योंकि मोबाइल, कंप्यूटर आदि विज्ञान की देन है जिन पर हम Online पढ़ाई कर सकते हैं Internet पर पूरी दुनिया का ज्ञान आपको मिल जाएगा, ऑनलाइन रिसर्च करके आर्टिकल पढ़ सकते हैं स्कूल के बुक से संबंधित आर्टिकल्स पढ़कर अपने ज्ञान को बढ़ा सकते हैं। इसके अतिरिक्त शिक्षा से संबंधित किसी प्रकार का ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है।

एक वरदान के रूप में विज्ञान


सभी मनुष्य के लिए विज्ञान एक वरदान समान है इसके सही इस्तेमाल के अनेकों फायदे हैं और गलत प्रयोग के कई नुकसान भी, ऐसी कई आविष्कार विज्ञान ने की है इसका सही उपयोग करना मनुष्य के हाथों में होता है विज्ञान ने हमें जितने भी तकनीक से रूबरू कराया है उनका सही से उपयोग करना हर व्यक्ति का अधिकार है, इसका गलत प्रयोग इस वरदान को अभिशाप में बदल सकता है।

विज्ञान के अभिशाप या नुक़सान (Essay in Hindi)


विज्ञान की जहां कई फायदे हैं वहीं कई नुकसान भी हैं वैसे यहां विज्ञान की कोई गलती नहीं है विज्ञान व्यक्ति के अधीन होता है और व्यक्ति इसे जैसा चाहे वैसा उपयोग कर सकता है यदि इसका सही उपयोग किया जाए तो यह वरदान साबित होगा, नहीं तो अभिशाप।

विज्ञान के गलत इस्तेमाल और इसके अति से होने वाले हानियां निम्न हैं -

व्यक्ति में आलस्य का बढ़ना - विज्ञान के बहुत अधिक तरक्की से व्यक्ति अपने लिए हर वह चीज ले आता है जिसकी वजह से उन्हें मेहनत करना नहीं पड़ता जैसे गर्मी से बचने के लिए पंखा व कूलर, फूड तैयार करने के लिए कुकिंग मशीन इसी तरह के दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले सभी चीजों पर पूरी तरह से निर्भरता उनके अंदर से कार्य करने का लगन खत्म कर देता है। किसी भी तरह की एक्टिविटी ना होने के कारण व्यक्ति का वजन बढ़ने लगता है सेहत पर गलत प्रभाव पड़ता है।

वातावरण पर दुष्प्रभाव - बड़े बड़े कारखानों और फैक्ट्री से निकलने वाली जहरीली हवा वहां की पर्यावरण और ऑक्सीजन को प्रदूषित कर देता है जिससे लोगों को सांस लेने में तकलीफ होती है, कारखानों से निकलनेे वाले अपशिष्ट्ट पदार्थ नदियों और समुद्र में जाते हैं इसके वजह से जल प्रदूषित हो जाता है जिसे पशुुु पीकर बीमार हो जाते हैं।

टेक्नोलॉजी और मोबाइल से अधिक लगाव - बेशक मोबाइल फोन में जिंदगी को आसान बना दिया है लेकिन इस पर हद से ज्यादा निर्भर रहना सेहत केे लिए अच्छा नहींं होता इससे आंख की रोशनी कम हो सकती है, फोन पर हर समय व्यस्त हो होने के कारण एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के साथ समय नहीं बताता है इससे लोगों के बीच दूरियां बढ़ रही है, इससे भी स्वास्थ्य पर फर्क पड़ता है, अच्छे स्वास्थ्य केे लिए लोगों से मिलना - जुलना जरूरी है।

लोग भले ही हवाई जहाज ट्रेन और बस से यात्रा करते हैं और उनकी मंजिल तक पहुंचते हैं लेकिन एक लापरवाही या असावधानी के कारण एक्सीडेंट हो सकता है आए दिन खबरों में प्लेन क्रैश, बस एक्सीडेंट आदि सुनने व देखने को मिलते रहते हैं। 

उपसंहार

मानव जाति के लिए विज्ञान एक वरदान स्वरुप है इसका सही उपयोग करना हमारा अधिकार है, विज्ञान स्व-निर्मित नहीं है इसे इंसान ने ही बनाया है, इसका इस्तेमाल सही या गलत करना इंसान के ही हाथ में है इसके सदुपयोग से कई फायदे हो सकते हैं और गलत प्रयोग के गलत परिणाम भी दिख सकते हैं।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने